प्राथमिक व वरिष्ठ माध्यमिक स्तर पर हिन्दी भाषा शिक्षण चित्रों पर चर्चा …

प्राथमिक व वरिष्ठ माध्यमिक स्तर पर हिन्दी भाषा शिक्षण चित्रों पर चर्चा व बातचीत के माध्यम से करवाया जाना चाहिए ।

राजकीय मॉडल संस्कृति वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय क्योड़क,  कैथल में  कार्यरत हिंदी प्राध्यापक डॉ विजय चावला सदस्य का मानना है कि प्राथमिक स्तर पर हिन्दी भाषा शिक्षण चित्रों पर चर्चा व बातचीत के माध्यम से करवाया जाना चाहिए । हमें बच्चों को कक्षा में तनावमुक्त वातावरण मुहैया कराना चाहिए । उन्हें अपने विचार अभिव्यक्त करने के अवसर प्रदान किए जाने चाहिए । यदि कक्षा में उन्हें ऐसे मौके दिए जाएं तो वे अपने विचार अभिव्यक्त करने में सक्षम हो जाएंगे । कक्षा में सामूहिक गतिविधि करवाते हुए शिक्षण करवाना हमेशा लाभकारी सिद्ध होता है । इस प्रकार की गतिविधियों से बच्चे किसी भी नए व अप्रत्याशित विषय पर अपने विचार लिखने में भी महारत हासिल कर लेते हैं चावला ने बताया कि एल एल एफ के माध्यम से उन्होंने भाषा शिक्षण के सिद्धांतों को  काफी बारीकी से सीखा है जिसका प्रयोग वे न केवल प्राथमिक स्तर पर हिन्दी भाषा शिक्षण के लिए कर रहे हैं बल्कि माध्यमिक व वरिष्ठ स्तर पर भी भाषा शिक्षण के लिए कर रहे  हैं । हमें कक्षा में बच्चों को चर्चा व बातचीत के पर्याप्त अवसर देने चाहिए । भाषा सीखने के लिए बच्चों को उसे सुनने और उपयोग करने के लिए भरपूर मौके मिलने चाहिए । चावला ने प्राथमिक स्तर के कक्षा दूसरी के बच्चों को चित्रों के साथ बातचीत व चर्चा करने के अवसर प्रदान किए । स्मार्ट कक्षा-कक्ष के माध्यम से चित्रों पर चर्चा बातचीत करने के उपरांत उन्हें अपने- अपने अनुभव व विचार एक दूसरे के साथ साझा करने के लिए भी कहा । बच्चों ने सामूहिक गतिविधि के माध्यम से किया गया यह प्रयास काफी कारगर सिद्ध हुआ । चावला ने वरिष्ठ माध्यमिक स्तर पर भी बच्चों को चित्रों के साथ बातचीत व चर्चा करने के अवसर प्रदान किए ।

Vijay Chawla

Vijay@68

I am a teacher by profession. My aim is to use innovative ideas in hindi teaching for the betterment of students and hindi language.

You may also like...

Leave a Reply